नमी सी दिख तो रही है आँखों में ,
पर रोने के लिए शायद वक़्त ही नहीं ।
ग़ुलामी का दौर सदियों से चल रहा है,
अब तो आदत सी हो गयी है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*
Website