मंजिल

Bhagalpur

कश्मकश कुछ कम नहीं की थी किसी ने,
मंजिल की तलाश में ।
पैरों पे खड़े तो हो गए हैं दुनिया कहती है,
ये दिल जानता की कितना झुकना पड़ गया ।

I'm a business analyst. I have a background in Sales, Engineering, MBA and analytics. I enjoy photography.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top
%d bloggers like this: