कश्मकश कुछ कम नहीं की थी किसी ने,
मंजिल की तलाश में ।
पैरों पे खड़े तो हो गए हैं दुनिया कहती है,
ये दिल जानता की कितना झुकना पड़ गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*
Website